UPCOMING EXAMS:
CCC : On first saturday of every month| Railway RRB Group D : 17 September, 2018 onwards| HSSC Haryana : 10, 11, 17, 18 November, 2018| UPTET : 18 November, 2018| Haryana Police Constable : 02, 23, 30 December, 2018| IBPS CRP Clerk (Prelims) : 08, 09, 15, 16 December, 2018| CTET : 09 December, 2018| RPF - Constable : 19 December, 2018| RPF - SI : 19 December, 2018| UP-Gram Vikas Adhikari : 22, 23 December 2018| SSC Stenographer : 01-06 February, 2019| Jawahar Navodaya : 02 Feb, 2019| Jawahar Navodaya : 06 April, 2019| SSC CPO (SI) PAPER - 1 : Dates Awaited| SSC CPO (SI) PAPER-2 : Dates Awaited| SSC CGL 2018 : Dates Awaited| SSC Constable (GD) : Dates Awaited|

Get 3 Steps for Preparation of exam

2
How Ready You Are
Subject Wise Report
Module Wise Report
Mock Test
3
Buy The Plans
RED 100
Rs.100
Bronze
Rs.500
Silver
Rs.750
Gold
Rs.1400
CCC 150
Rs.150
CCC 250
Rs.250
GK 200
Rs.200
One Subject
Rs.350
Buy Now

सरकारी नौकरी पाने की आपकी इच्छा, पूरी करेगी टीम "सरकारी परीक्षा"

" विशेषज्ञों का पिटारा / Experts Views "

pariksha_kumari
परीक्षा कुमारी

परीक्षा कुमारी की टिप्पणी : तर्क से कुतर्क का फर्क

कभी कभी किसी के उत्तर को सुनकर दिल बाग़-बाग़ हो उठता है और हम उछल पड़ते हैं, 'वाह ! कितना तर्क संगत और सटीक उत्तर है !!' अक्सर गोष्ठियों में वैचारिक मतभेद हो जाने पर वितर्क और कुतर्क का समावेश हो जाता ह Read More

pariksha_kumariअनुमान गुरु

अनुमान गुरु और रोज़गार सेतु !

हर व्यक्ति किसी न किसी तरह के रोज़गार से जुड़ कर जीवन व्यापन करता है | जीवन की तमाम जरूरतें पूरा करने के साथ-साथ रोज़गार हमारे प्रतिदिन की दिनचर्या को अनगिनत मुद्दों से जोड़ने का काम करता है | मसलन, त Read More

X

परीक्षा कुमारी की टिप्पणी : तर्क से कुतर्क का फर्क

कभी कभी किसी के उत्तर को सुनकर दिल बाग़-बाग़ हो उठता है और हम उछल पड़ते हैं, 'वाह ! कितना तर्क संगत और सटीक उत्तर है !!'

अक्सर गोष्ठियों में वैचारिक मतभेद हो जाने पर वितर्क और कुतर्क का समावेश हो जाता है जिससे समय नष्ट होने के साथ साथ गोष्ठी की आत्मा का हनन भी हो जाता है |

इतना कुछ बताने का हमारा आशय मात्र यह है कि किसी भी परीक्षा के सन्दर्भ में तर्क, वितर्क व कुतर्क महत्वहीन हैं | पूछे गये, प्रश्न का सीखा-समझा उत्तर दें | यहाँ भावनात्मकता, आध्यात्मिकता, दार्शनिकता, अथवा भाग्यवादिता का कोई काम नहीं है | इस घडी में मेहनत और कर्मठता ही काम में आते हैं |

'प्रश्न पत्र कठिन था' | 'स्वास्थ्य सही नहीं था' | 'अगली बार देख लेंगे', इस प्रकार के तर्क अर्थहीन ही नही व्यर्थ भी हैं | 'मंजिल बहुत बहुत दूर है' की दिशा दर्शाते है |

उद्यमः साहसं धैर्यं बुद्धिः शक्तिः पराक्रमः ।

षडेते यत्र वर्तन्ते तत्र दैव सहायकृत् ॥

'मेहनत, साहस, धैर्य, बुद्धि, शक्ति और बहादुरी यह छ: गुण जहाँ उपस्थित हो, देवता वहां सहायक होते हैं |

X

अनुमान गुरु और रोज़गार सेतु !

हर व्यक्ति किसी न किसी तरह के रोज़गार से जुड़ कर जीवन व्यापन करता है | जीवन की तमाम जरूरतें पूरा करने के साथ-साथ रोज़गार हमारे प्रतिदिन की दिनचर्या को अनगिनत मुद्दों से जोड़ने का काम करता है | मसलन, तरक्की के आयाम खोजना, आर्थिक स्तिथियों का आंकलन, सहकर्मियों के साथ ताल मेल बैठाना और बहुत कुछ !! हर स्थिति में हमें समाज और परिवार के साथ जुड़े रहने की प्रतिबद्धता निभानी होती है | हमारा कार्यस्थल ही हमारा कर्मस्थल है | रोज़गार जीने का जरिया है, एक अभिन्न अंग है | राजा-महाराजा भी कंगाल हो जाते हैं यदि वे अपने खजाने की आपूर्ति समयानुसार नहीं करते | हर व्यक्ति को छोटा बड़ा, स्थायी-अस्थायी अथवा कम-अधिक वेतन, जिस प्रकार का काम मिले करके कमाते रहना चाहिए | मैंने कुछ ऐसे लोग देखे हैं जो सरकारी नौकरी के चक्कर में सरकारी परीक्षा की तैयारी के बहाने जीवन के बहुमूल्य वर्षों को निगल जाने के साथ ही दुसरो पर आश्रित होने की संभावनाओं को बढ़ावा देते हैं | कुछ लोग काम और कर्तव्यों के प्रति उदासीन होकर उनकी उपेक्षा भी करते हैं इस प्रकार की मानसिकता यक़ीनन निन्दनीय है | परीक्षा की तैयारी अन्य कामों के समान्तर आराम से संभव है | आप अपनी प्राथमिकताओं को क्रमबद्ध तरीके से अपने 'रोज़गार सेतु' द्वारा कार्यान्वित कर सकते हैं | sarkaripariksha.com आपके लिए एक रोज़गार सेतु का काम करेगा |

'उद्यमेन हि सिध्यन्ति, कार्याणि न मनोरथैः' अर्थात 'काम, करने से सिद्ध होता है केवल चाहने मात्र से नही'

X