Anumaan Guru
Anumaan Guru / अनुमान गुरु

अनुमान गुरु का 'व्यस्तता मंत्र'

education

परीक्षार्थी अक्सर अपने लक्ष्य से भटक जाते हैं, जिसका कारण मन का भटकाव होता है | यह बहुत पुरानी पंक्ति है कि "मन के हारे हार है, मन के जीते जीत" | कम समय, कम संसाधन और आर्थिक कमियों के चलते कभी कभी बिगड़ता स्वास्थ्य भी इस भटकाव का कारण बन जाता है | इसी बीच अपना दर्द भूलने के लिए अलग अलग तरह के नशे का सहारा लेकर नौजवान पुर्णतः असंतुलित हो जाते हैं | Facebook, YouTube इत्यादि भी एक प्रकार के नशे ही हैं | मेरा ...read more

X

मामूली नहीं सीरियस बात है !

खबरदार ! मज़ाक कम, काम ज्यादा !! गुरूजी बड़े गंभीर मूड में हैं। कौन लगाएगा इन नौकरी परस्त, परीक्षार्थियों की नैय्या पार? अनगिनत आवेदक और गिनती की रिक्तियाँ (पद)!! वह अन्चक्के उछले और बोले यह कतई मामूली बात नहीं है। क्योंकि रेल परीक्षा बगल में खड़ी मुस्कुरा रही है। कभी भी साईरन बज सकता है। भैया कर लो तैयारी पक्की, ध्यान रहे नहीं है चूकना, जोड़ो खुद को sarkaripariksha.com से, रेस लगाओ नहीं है रुकना। ...read more

X

अनुमान गुरू के मंत्र

आगामी परीक्षाओं की लिस्ट बहुत लम्बी है | अपनी आवश्यकतानुसार sarkaripariksha.com से “छाँटें और पकड़ें – परीक्षा हाथ लगे तो  छूट ना पाये “| इसे अपनी दिनचर्या का विशेष अंग बनायें, लगातार मॉनिटर करें, हमसे सलाह लें, हमारे ऑनलाइन संदेश पढ़ें, हमारे स्कीमों के तहत सुनिश्चित मॉक टेस्ट देकर अपनी तैयारी का मूल्याँकन करते रहें | “सरपट चल दी रेल परीक्षा , झट कर लो तैयारी  sarkaripariksha.com की मदद से, जीत लो अप ...read more

X
Anumaan Guru

गुरूजी के संदूक में अनगिनत संभावनाएँ, अनुमान, आँकड़े, आकलन और अनुभव भरे पड़े हैं | समय के साथ गुरूजी अपनी धरोहर, लघु कलेवरों में लपेटकर sarkaripariksha.com, के माध्यम से किस्तों में प्रस्तुत कर रहें हैं | जैसा कि इनके नाम से स्पष्ट है, बहुत कुछ यहाँ, संभावना अथवा पूर्वाभास जनित हो सकता है जो समय के मापदण्ड का मोहताज है | परन्तु यह भी सच है –

“अक्सर तमन्चे की गोली भी चूक जाती है, निशाना सही हो तो मंजिल मिल ही जाती है”