Anumaan Guru
Anumaan Guru / अनुमान गुरु

अनुमान गुरु और रोज़गार सेतु !

education

हर व्यक्ति किसी न किसी तरह के रोज़गार से जुड़ कर जीवन व्यापन करता है | जीवन की तमाम जरूरतें पूरा करने के साथ-साथ रोज़गार हमारे प्रतिदिन की दिनचर्या को अनगिनत मुद्दों से जोड़ने का काम करता है | मसलन, तरक्की के आयाम खोजना, आर्थिक स्तिथियों का आंकलन, सहकर्मियों के साथ ताल मेल बैठाना और बहुत कुछ !! हर स्थिति में हमें समाज और परिवार के साथ जुड़े रहने की प्रतिबद्धता निभानी होती है | हमारा कार्यस्थल ...read more

X

संतुष्टि, संतृप्ति और संतुलन

education

संतुष्टि एक विशाल शब्द है क्योंकि इसमें निहित भाव एक सीमाहीन आकाश के तुल्य है | हम सभी की प्रवृत्ति है कि कुछ पाने के बाद हम और अधिक पाना चाहते हैं | यह इच्छा एक अभिप्रेरणा का काम करती है | एक महान विचारक के अनुसार 'आपके जीवन में संतुष्टि का आगमन आपकी प्रगति पर विराम चिन्ह का सूचक है और यह गति अवरोध का रूप है' | जाहिर है कि संतुष्टि का परिमाण ही यह निश्चित करेगा कि वह अल्प विराम है अथवा पूर ...read more

X

अनुमान गुरु का 'विकल्प बोध'

education

प्रसिद्ध फारसी कवि ‘शेख सादी’ ने मिट्टी के ढेले से उसमें छुपी खुशबू का राज़ पुछा| ढेला बोला, 'मुझमे खुशबू कहाँ ? मैं गुलाब के बाग़ में जो पड़ा था... खुशबू खुद ब खुद भर गई| इस लघु लेख का आशय मात्र यह है कि हमें हर वस्तु, व्यक्ति, भाव, चिंतन, प्रक्रिया एवं प्रतिक्रिया की उपयोगिता एवं गुणवत्ता का आंकलन करने के बाद उसका स्वीकार अथवा तिरस्कार करना चाहिए| आंकलन के लिये मापदंड क्या हो ? यह एक जटिल व ...read more

X

अनुमान गुरु का ‘अनुशोधन’ और ‘पुनरभ्यास' मन्त्र

education

दुनिया के तमाम अविष्कार अपने उपयोगी रूप में बिना‘अनुशोधन’ की प्रक्रिया से गुजरे हमारे समक्ष नही आये| ‘अनुशोधन’अर्थात बार बार दोहराकर सुधारना| 'करत–करत अभ्यास के , जड़ मति होत सुजान रसरी आवत–जात के, सिल पर परत निशान|' अर्थात् बार–बार अभ्यास करने से जड़ मस्तिष्क भी प्रखर हो जाता है ठीक उसी प्रकार जैसे रस्सी के घिसते रहने से पत्थर पर भी निशान बन जाता है| ...read more

X

अनुमान गुरु का 'सफ़र एक और नौका दो'

education

आप अमुख परीक्षा की तैयारी में व्यस्त हैं | आपने अपनी तैयारी हेतु किसी विशेष वेबसाइट का चयन किया है | आपने मित्रो के साथ विमर्श किया | हर कोई अपनी अपनी प्राथमिकता बताता है | आप असमंजस्य में पड़ जाते हैं | यह स्थिति दुखदायी और असंगत है - 'चीटी चावल ले चली, बीच में मिल गयी दाल, कह 'रहीम' दोउ न चले, इक ले दूजा डाल | आप के समय की उपलब्धि सिमित है | आर्थिक विवशताएं और अन्य जिम्मेदारियाँ भी है | हम, सभी प ...read more

X

अनुमान गुरु का लघु-पथ दर्शन

education

हर काम में शॉर्टकट अपनाना कहाँ तक सही हैं? पेट्रोल महँगा है, गंतव्य तक पहुँचने के लिए यदि कोई छोटा रास्ता हो तो उसे अपनाकर पेट्रोल बचाना एक समझदारी है | लेकिन यदि वही छोटा रास्ता तमाम खतरों से घिरा हो तो क्या 'पेट्रोल बचाया, जान गंवाया', जैसी स्थिति से दो चार होना भी कोई समझदारी है? अक्सर हमें कई शॉर्टकट ऐसे भी लेने होते हैं जो हमारे लिए बहुत फायदेमंद (लाभदायक) होते हैं | किसी विषय अथवा सू ...read more

X

अनुमान गुरु का विकल्प विवेक

education

जीवन में अक्सर ऐसे क्षण आते हैं जो 'निर्णय' लेने को विवश कर देते हैं| निर्णयात्मक प्रक्रिया में बहुत कुछ संभावित है - जैसे: किसी विशेष परिस्थिति से छुटकारा पाना, किसी से समझौता करना, अपना हक़ छोड़ देना, सामंजस्य बैठाना, अथवा संतुलन हासिल करना| स्थिति ऐसी नहीं जहाँ विकल्प खोजने की गुंजाइश नहीं बनती हो| महज एक उपलब्धि अथवा उसकी चूक से जीवन का सूर्योदय या सूर्यास्त नहीं हो जाता है| दोनों ही प ...read more

X

अनुमान गुरु का "मौनाकांत मंत्र"

education

'एकांत और मौन' दोनों ही मानसिक शान्ति बनाये रखने के लिए 'रामबाण औषध' है | दोनों ही दशाओं में 'मैं, मेरा मन, मेरा मस्तिष्क' दिशा निर्देश का काम करते हैं | आप ने कभी सोचा है की जब आप कोई गहन (सीरियस) काम कर रहे होते हैं तब आप किससे बात करते हैं ? आप कहेंगे 'मैं तो बिलकुल चुप था...!! हाँ आप तो चुप थे परन्तु आपकी सोच, आपके भाव, आपकी स्मरण शक्ति सब कुछ आपसी संवाद में व्यस्त थे | जबकि आपका मस्तिष्क, निर ...read more

X

अनुमान गुरू की चेतावनी

education

रेलवे भर्ती की 90000 पदों हेतु आगामी परीक्षा सर पर खड़ी है | 2 करोड़ अभ्यर्थियों द्वारा आवेदन पत्र भरा जाना प्रत्यक्ष संदेश है कि आने वाले 5-6 वर्षों की नियुक्तियों का चयन इसी परीक्षा के तहत होना है | इस स्वर्णिम अवसर का लाभ sarkaripariksha.com की मदद से अपनी सरकारी नौकरी का सपना साकार करने की कोशिश करें | यदि गुरू जी  का `अनागत विधाता` फंडा सच निकलता है तो अगली बार रेलवे परीक्षाओं के लिए आयु सीमा घटाई ज ...read more

X

अनुमान गुरू का समाधान अध्याय

education

आपको अपनी परीक्षा की तैयारी का निष्पक्ष आकलन करवाना है तो अपनी गति को sarkaripariksha.com के साथ मिलाना होगा | गति अवरोध आपको पुनः आकलन का अवसर देता है | अतः, हार मानकर बैठ जाना, खुद पर अविश्वास का प्रतीक है | चलिए, समाधान की ओर !  मॉक टेस्ट देकर रिपोर्ट कार्ड लें | जिन टॉपिक्स पर आप सक्षम हैं उन्हें और अधिक मजबूत करें, कमियाँ ना छोड़ें, जो टॉपिक आपको कठिन लगते हैं, उन पर अधिक फोकस करें sarkaripariksha.com की मदद ...read more

X

अनुमान गुरु की सत्यवाणी

education

'स्पर्धा' सामान्यतः अच्छी नहीं मानी जाती है। परन्तु गुरु के अनुसार 'स्पर्धा' का सही अर्थ में प्रयोग उसका उपयोग बन जाता है यदि आप अपने दोस्तों के साथ बैठकर sarkaripariksha.com के Mock test, Subject test, Practice Question इत्यादि देने का अवसर ढूंढे और ग्रुप एक्टिविटी की तरह अपने-अपने Laptop/ Mobile से प्रश्नों के उत्तर इस भावना से देते जायें की आप सबसे कम समय में अपना प्रश्नपत्र हल करके रहेंगे औरों को पीछे छोड़कर, तो इस प्रका ...read more

X

अनुमान गुरु का 'व्यस्तता मंत्र'

education

परीक्षार्थी अक्सर अपने लक्ष्य से भटक जाते हैं, जिसका कारण मन का भटकाव होता है | यह बहुत पुरानी पंक्ति है कि "मन के हारे हार है, मन के जीते जीत" | कम समय, कम संसाधन और आर्थिक कमियों के चलते कभी कभी बिगड़ता स्वास्थ्य भी इस भटकाव का कारण बन जाता है | इसी बीच अपना दर्द भूलने के लिए अलग अलग तरह के नशे का सहारा लेकर नौजवान पुर्णतः असंतुलित हो जाते हैं | Facebook, YouTube इत्यादि भी एक प्रकार के नशे ही हैं | मेरा ...read more

X

मामूली नहीं सीरियस बात है !

खबरदार ! मज़ाक कम, काम ज्यादा !! गुरूजी बड़े गंभीर मूड में हैं। कौन लगाएगा इन नौकरी परस्त, परीक्षार्थियों की नैय्या पार? अनगिनत आवेदक और गिनती की रिक्तियाँ (पद)!! वह अन्चक्के उछले और बोले यह कतई मामूली बात नहीं है। क्योंकि रेल परीक्षा बगल में खड़ी मुस्कुरा रही है। कभी भी साईरन बज सकता है। भैया कर लो तैयारी पक्की, ध्यान रहे नहीं है चूकना, जोड़ो खुद को sarkaripariksha.com से, रेस लगाओ नहीं है रुकना। ...read more

X

अनुमान गुरू के मंत्र

आगामी परीक्षाओं की लिस्ट बहुत लम्बी है | अपनी आवश्यकतानुसार sarkaripariksha.com से “छाँटें और पकड़ें – परीक्षा हाथ लगे तो  छूट ना पाये “| इसे अपनी दिनचर्या का विशेष अंग बनायें, लगातार मॉनिटर करें, हमसे सलाह लें, हमारे ऑनलाइन संदेश पढ़ें, हमारे स्कीमों के तहत सुनिश्चित मॉक टेस्ट देकर अपनी तैयारी का मूल्याँकन करते रहें | “सरपट चल दी रेल परीक्षा , झट कर लो तैयारी  sarkaripariksha.com की मदद से, जीत लो अप ...read more

X
Anumaan Guru

गुरूजी के संदूक में अनगिनत संभावनाएँ, अनुमान, आँकड़े, आकलन और अनुभव भरे पड़े हैं | समय के साथ गुरूजी अपनी धरोहर, लघु कलेवरों में लपेटकर sarkaripariksha.com, के माध्यम से किस्तों में प्रस्तुत कर रहें हैं | जैसा कि इनके नाम से स्पष्ट है, बहुत कुछ यहाँ, संभावना अथवा पूर्वाभास जनित हो सकता है जो समय के मापदण्ड का मोहताज है | परन्तु यह भी सच है –

“अक्सर तमन्चे की गोली भी चूक जाती है, निशाना सही हो तो मंजिल मिल ही जाती है”